Tum Yahi Ho Paas Mere | Mid Night Diary | Raghv Bharat

Tum Yahi Ho Paas Mere

सुनो !

तुम गर चले गये हो तो ये पायल की झंकार किसकी सुनता हूँ मैं।

ये किसकी बिंदिया हैं जो आईने से मुझे देखती है ।

ये किसकी चूड़ियों की खनक है जो कानो में मिश्री घोलती हैं ।

रसोई में कौन है जो मुस्कुरा कर गले से लग जाता है ।

ये कौन है जो हर जगह घर के हर कोने में साथ है मेरे ।

चादरों की सिलवटों में भी तो तुम्हारी महक है ।

ये किसकी याद है जो सुबह उठा देती है ।

तुम तो यहीं हो गए कहाँ हो ?

और गर चले गए हो तो ,

फिर ले क्या गए हो ?

वो सिन्दूर जो भरा था मांग में तुम्हारी ।

वो दिये की बाती जो जोड़ कर रखती थी हमें।

या वो प्यार जो दिया तुम्हे हमेशा ।

या मेरी आत्मा का अंश ले गए हो तुम।

क्या ले गए हो सोचना कभी जब तन्हा हो ,

भीड़ में कब कहाँ कुछ सोच पाते हो तुम ।

झांकना कभी मेरी आत्मा के अंश में ,

नज़र आयेगा उन नन्ही मासूम आँखों में अक्स मेरा ।

वो आँखे पूछेंगी क्या मैं सिर्फ तेरा हूँ ।

शायद महसूस हो तुम्हे दर्द उसका और मेरा ।

कभी सोचना मुझे मैं क्या हूँ कौन हूँ तुम्हारे लिए ।

नदी कहीं से कहीं बहे मिलना उसे सागर में ही है ,

सागर के सिवा कहीं नहीं है ठिकाना उसका ।

सोचना ……।

वैसे तुम यहीं हो पास मेरे ।

 

-राघव भरत

 

Raghv Bharat
Raghv Bharat
Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Share on TumblrShare on LinkedInPin on PinterestEmail this to someone

446total visits,1visits today

One thought on “Tum Yahi Ho Paas Mere

  1. अत्यंत खूबसूरत रचना, सादे शब्दों के साथ भी अलग भाव उकेर दिया है आपने।

Leave a Reply