Tag: #UnlockTheEmotion

Hello everyone,
Wishing you a great new year!

Do you love to weave stories? Do you relish taking your characters through a new experience every time? Do you believe in the magic of connecting through storytelling?
Then why limit the reach of your stories to just a piece of paper or a diary in a closet. Your story might win a fee hearts and for you win a few awesome prizes.

If you have a story/poetry/poem/ghazal/atukant, this is the right place for you.

Mid Night Diary brings to you “Writing Competition 2018 #UnlockTheEmotion”.

Below mentioned are the rules:

1. The story/poetry/poem/ghazal/atukant can either be in Hindi or English.
2. Only two entries(unpublished content ) from one person would be accepted.
3. Story on any theme is acceptable.
4. There is no word limit.
5. The story should not hurt anyone’s sentiments.

You need to mail the story/poetry/poem/gazhal/atukant to the below ids with your photograph diary.midnight01@gmail.com & submit@midnightdiary.in

Hum Jo Honthon Par Itni Muskaan Liye Baithe Hain | Mid Night Diary | DInesh Gupta | #UnlockTheEmotion
Poetry

हम जो होठों पर इतनी मुस्कान लिए बैठे हैं | दिनेश गुप्ता | #अनलॉकदइमोशन

हम जो होठों पर इतनी मुस्कान लिए बैठे हैं सीने में ग़मों का तूफान लिए बैठे हैं आप जो हमसे इतना अनजान हुए बैठे हैं आप तो हमारी जान ही लिए बैठे हैं एक वोContinue reading

Ishq Me Aksar Kitne Ehsaan Reh Jate Hain | Mid Night Diary | DInesh Gupta | #UnlockTheEmotion
Poetry

इश्क में अक्सर कितने एहसान रह जाते हैं | दिनेश गुप्ता | #अनलॉकदइमोशन

जख़्म भर जाते हैं चोट के निशान रह जाते हैं इश्क में अक्सर कितने अहसान रह जाते हैं बेशक जान लेता है सारा जमाना इश्क में मगर अक्सर हम खुद से ही अनजान रह जातेContinue reading

Poetry

मैं तकलीफें सह लूंगा | धर्मेंद्र सिंह | #अनलॉकदइमोशन

अंबर से बदरी छट जाये, फूलों की रंगत उड़ जाये जो रात न तन्हा कट पाये, पास मेरे आ जाना तुम बिस्तर पे तुम सो जाना, मैं सोफे पे ही रह लूंगा तुम आराम कोContinue reading

Wo Ladki | Mid Night Diary | Dharmendra Singh | #UnlockTheEmotion
Poetry

वो लड़की | धर्मेंद्र सिंह | #अनलॉकदइमोशन

वो पास वाले मेरे…घर में ही रहती थी न बोलती जुबां से, वो नैनों से कहती थी फिर एक दिन वो चली गई, मुझे बिन बताये हम घूमते थे फ़कीर से…दौलत लुटाये उसके जाने केContinue reading

Baaton Ki Purani Si Nayi Painting | Mid Night Diary | Aditi Chatterjee | #UnlockTheEmotion
Micro Tales

बातों की पुरानी सी नयी पेंटिंग | अदिती चटर्जी | #अनलॉकदइमोशन

बातों की पुरानी सी नयी पेंटिंग के कुछ रंग ज़रा चटकने लगे हैं, शायद मशरूफ है वो किसी दूसरे काम में… मैंने कोशिश की कुछ रंगो को और मिलाकर ठीक उसे वैसा ही करने कीContinue reading

kahin Na Kahin | Mid Night Diary | Anchal Shukla | #UnlockTheEmotion
Poetry

कहीं ना कहीं | आँचल शुक्ला | #अनलॉकदइमोशन

मेरे ना होने पर तुम्हें भी मेरी कमी तो खलेगी कहीं ना कहीं तुम कितना भी जताओ की तुम्हें कोई फ़र्क नहीं पड़ता फ़िर भी एक तपिश तो रहेगी कहीं ना कहीं मेरे ख़याल सेContinue reading

Poetry

पहली मुलाक़ात | आँचल शुक्ला | #अनलॉकदइमोशन

वो पहली मुलाक़ात हम थे कुछ पल साथ वो भी मुझे बार-बार झपकती हुई पलकों से अपनी आँखों में कैद कर रहे थे.. और मैं भी शरमा कर थोड़ी-थोड़ी उनमें गुम हो रही थी… दिलContinue reading

Tab Main Aazaad Kehlaau | Mid Night Diary | Gaurav Singh | #UnlockTheEmotion
Poetry

तब मैं आज़ाद कहलाऊँ | गौरव सिंह | #अनलॉकदइमोशन

फिर उठी आजादी की बात, हमने भी कह दिया हम आज़ाद है। जब नज़र पड़ी उन हाथो पर, उठाये थे बोझ कच्ची उम्र में, “क्या ये आज़ाद कहलाये है?” जब नज़र पड़ी उस तराज़ू पर,Continue reading

Chalo Bhikher Dete Hain | Mid Night Diary | Aradhana Shukla | #UnlockTheEmotion
Poetry

चलो बिखेर देते हैं | आराधना शुक्ला | #अनलॉकदइमोशन

चलो आज बिखेर देते हैं, तुम्हारे साथ बीता हर पल, हर लम्हा मन की पिटारी से निकालकर शायद ये उदास लम्हे फिर से खिलखिला उठें। चलो आज तुम्हारी बातों को फिर से दोहराते हैं तुम्हारीContinue reading