Tag: Saransh Shrivastava

Wo EK Pal | Mid Night Diary | Saransh Shrivastava | Love Poetry
Poetry

वो एक पल | सारांश श्रीवास्तव | लव पोएट्री

मैं उस रोज़ घोर अँधेरे में जब तम्हारे सीने पर सर रख कर बंद पलकों से लेटी हुई थी तुम्हारी धड़कनो की आवाज़ भी कुछ बढ़ी बढ़ी सी थी साँसे भी कुछ भारी भारी थीContinue reading