Tag: Roshan ‘Suman’ Mishra

Kuch Misra | Mid Night Diary | Roshan 'Suman' Mishra
Love, Poetry

Kuch Misra

बस इक आखिरी ख्वाब हो अब भी, यादों को इस कदर संजोया है हमने। रातें कटती है रोते हुए अब भी, आंसुओं से तकिये भिगोया है हमने।। देखता हूँ दर्पण बार बार अब भी, बड़ीContinue reading

Papa - One Dream | Mid Night Diary | Roshan 'Suman' Mishra
Short Stories

Papa – One Dream

पापा अब भी याद है, जब मैंने पिंकू भईया के बारात में जाने की जिद्द पकड़ी थी। आप मुझे मना कर रहें थें कि नहीं तू मत जा अकेले, अभी तू छोटा है, बरात मेContinue reading