Tag: Rahul Vyas

Jeevan Bhar Jo Yaad Rahega | Mid Night Diary | Rahul Vyas
Poetry

जीवन भर जो याद रहेगा | राहुल व्यास

एहसासों के पन्नें लेकर मैं स्वांसों के छंद लिखूंगा । जीवन भर जो याद रहेगा मैं एक ऐसा बंध लिखूंगा ।। जीवन के कोलाहल से कुछ वक़्त चुराकर लाया हूँ इन स्याह अँधेरी रातों सेContinue reading

Hey Chandramukhi | Mid Night Diary | Rahul Vyas
Poetry

हे! चंद्रमुखी | राहुल व्यास

हे!चंद्रमुखी हे! मृग नयनी ये कंचन सी जो काया है हे प्रिये सुमुखि ये बतला दो ये रूप कहाँ से पाया है ये अधरों में मुस्कान सजी या नयनों की हो चंचलता या मुड़ी मुड़ीContinue reading