Tag: Mother

Maa | Mid Night Diary | Prajjval Nira Mishra | Mother's Day Special
Poetry

माँ | प्रज्ज्वल नीरा मिश्रा | मदर’स डे स्पेशल | #अनलॉकदइमोशन

माँ दूर है तो खुद को मैं बच्चा नही लगता। वो है नही तो ये शहर अच्छा नही लगता। जल्दी खा के सो जाना,जल्दी उठ जाना। यही है रोज़ का फसाना। पर सच बताऊं तोContinue reading

Poetry

माँ | आशीष कुमार लोधी

कभी-कभी मैं बेचैन हो जाता हूँ, माँ से कही बातें सोचकर, कि मैं सही हूँ | पता नहीं, शायद वो एक गायक हैं, या एक मनोवैज्ञानिक, जो मेरी आवाज़ के गंभीर उतार – चढ़ावों को,Continue reading

Love, Micro Tales, Short Stories

माँ ‘द अनकंडीशनल लव’ | अमन सिंह

ऑफिस से आने के बाद रोज़ रोज़ खाना बनाने की जद्दोजहेद और अकेलापन अब जैसे थम सी गयी जिंदगी का हिस्सा बन गये हैं। पिछली रात की बात है, लगभग ११ बज गये थे औरContinue reading