Tag: Mihir Pandey

Suna To Nahi | Mid Night Diary | Mihir Pandey
Micro Tales

सुना तो नहीं | मिहिर पांडेय

“ देश में घोटाले करने का तरीका भी बदल जाता है, जब कोई देश बदल रहा होता है। मतलब यह है कि घोटाले का प्रारूप अब पहले से बेहतर और साफ़ – सुथरी दिखने लगाContinue reading

Love, Poetry

कलम और तुम | मिहिर पाण्डेय

क़लम में स्याही भर ली है। आज न जाने क्यूँ लिखने को दिल चाहा है। तुम्हारे लिए लिखूँ या तुमसे जुड़ी यादें लिखूँ। ऊँगलियाँ को थोड़ा संकोच है। तुम्हारे बारे में सच लिख नहीं सकता।Continue reading