Tag: Anchal Shukla

kahin Na Kahin | Mid Night Diary | Anchal Shukla | #UnlockTheEmotion
Poetry

कहीं ना कहीं | आँचल शुक्ला | #अनलॉकदइमोशन

मेरे ना होने पर तुम्हें भी मेरी कमी तो खलेगी कहीं ना कहीं तुम कितना भी जताओ की तुम्हें कोई फ़र्क नहीं पड़ता फ़िर भी एक तपिश तो रहेगी कहीं ना कहीं मेरे ख़याल सेContinue reading

Poetry

पहली मुलाक़ात | आँचल शुक्ला | #अनलॉकदइमोशन

वो पहली मुलाक़ात हम थे कुछ पल साथ वो भी मुझे बार-बार झपकती हुई पलकों से अपनी आँखों में कैद कर रहे थे.. और मैं भी शरमा कर थोड़ी-थोड़ी उनमें गुम हो रही थी… दिलContinue reading