Tag: Amita Gautam

Kahne De | Mid Night Diary | Amita Gautam
Poetry

Kahne De | Amita Gautam

मत कर दूर खुद से, मुझे तेरे करीब रहने दे। इन आंसू को मेरे तेरे दामन पर ही बहने दे।। तुझसे लिपट कर अपना हर गम भुला दू, और जो कहना है मुझे वो मुझेContinue reading

Kya Likhun | Mid Night Diary | Amita Gautam
Poetry

Kya Likhun :: Amita Gautam

अपना हक माँगू और अधिकार लिखूँ… या मेरा एक तरफ़ा प्यार लिखूँ… क्या लिखूँ? समझ नहीं आ रहा अब क्या लिखूँ?? तेरी दोस्ती का सारा सार लिखूँ, या अपनी मोहब्बत का इंतज़ार लिखूँ। क्या लिखूँ??Continue reading

Poetry

Nafrat :: Amita Gautam

दिन है बदल रहा,रात है बदल रही। मौसम है बदल रहा, सौगात है बदल रही।। इस बदलाव मे ज़िंदगी तुम भी बदल गई, क्या तुम्हे मुझसे नफ़रत सी हो गई ।। न बातो मे मिठास,Continue reading

Ek Baag Me | Mid Night Diary | Amita Gautam
Poetry

Ek Baag Me

कोमल सी पखुड़िया, रगं उसका लाल, सौन्दर्य मे वो सबसे कमाल, है महक उसकी मनमोहक नशीली, एक बाग मे सुमन अकेली.. न अहंकार, न कोई कमी, उसको प्यारी इस देश की ज़मी, हंसती,मुस्कुराती, चंचल मनContinue reading