Papa Ek Baat Btaao | Mid Night Diary | Hridesh Kumar Sutrakar

पापा एक बात बताओ | हृदेश कुमार सूत्रकार

पापा एक बात बताओ
जब में पैदा हुआ
तो क्या कोई साथ में लाया था,
उस खत में मैंने नाम के संग
क्या मजहब,जात किसीसे लिखवाया था।

में किस राज्य का हूँ , या देश मेरा क्या होगा
इस बात के लिए भी क्या
अपने कभी गौर फ़रमाया था।

पापा एक बात बताओ
अगर में कभी खो जाऊं तो,
किस पानी से प्यास बुझाऊंगा,
ये मस्जिद का हैं या मंदिर का
में कैसे पहचान पाउँगा।

अगर कभी बारिश हुयी
या सर्द हवा बही
अपना सरनेम बताकर
क्या में बच जाऊंगा।

पापा एक बात बताओ
अगर में मर गया
तो मेरा क्या करोगे,
आग में भष्म या फिर दफना दोगे।

ये बात और हैं की
इसको तय आप न कर पाएंगे
रीत रिवास बनाने वाले गली गली मौज मनाएंगे।

 

-हृदेश कुमार

 

Hridesh Kumar
Hridesh Kumar

300total visits,1visits today

Leave a Reply