Maa | Mid Night Diary | Mohit Chauhan | #UnlockTheEmotion

माँ | मोहित चौहान | #अनलॉकदइमोशन

बस यही एक नाम याद आता है मुझे हर मुसीबत में
कितना सुकून मिलता है जब आराम करता हूँ तेरी गोद में,

सही क्या है, गलत क्या है, ये तूने ही तो बताया है,
तू ही तो है माँ जिसने मुझे मुश्किलों से लड़ना सिखाया है,

मेरे हर दुख तक़लीफ को तूने अपने ऊपर लिया है,
जब जब हुआ निराश मैं, तूने अपने प्यार से मेरा आत्मविश्वास मज़बूत किया है,

तू ही है दुनिया मेरी, तुझसे ही मेरी पेहचान है,
नहीं मानता मैं उस मिट्टी की मूरत को, मेरे लिए तो साक्षात तू ही भगवान है,

हो गया हूँ जवाँ फिर भी टोका टाकी करती है,
मेरी माँ मुझे आज भी छोटा बच्चा समझती है,

थोड़ा सा भी परेशान हो जाऊं मैं, तो परेशान हो जाती है वो,
हैरान हो जाता हूँ देखकर कितनी खूबसूरती से हर रिश्ता निभाती है वो,

किन लफ्ज़ों में शुक्रिया अदा करूँ तेरा,
कहीं भी चला जाऊं, कितना भी काबिल बन जाऊं,
नहीं चुका सकता मैं, माँ कर्ज़ तेरा।

 

-मोहित चौहान

 

Mohit Chauhan
Mohit Chauhan

221total visits,1visits today

Leave a Reply