Kabhi Aisa Hoga Nahi | Mid Night Diary | Deepti Pathak | #UnlockTheEmotion

कभी ऐसा होगा नहीं | दीप्ति पाठक | #अनलॉकदइमोशन

वैसे तो अब कभी ऐसा होगा नही, की फिर से हमारे रास्ते कभी टकराये ,
पर फिर भी किसी शाम अगर ऐसा हो भी जाता हैं तो, नज़रें मिलाने की गलती ना करना।

आंखों से कहीं इश्क़ का इज़हार ना हो जाये,
क्योंकि जब रास्ते अलग किये थे ना, तो दिलों की मंजूरी शामिल नही थी उसमें।

जो नज़रें मिल भी गयी तो,चुरा लेना,

क्योंकि मेरी नज़रें समंदर के सैलाब में भी ये छुपा ना पाएंगी की हां मुझे आज भी इश्क़ है तुमसे।

जो कोई और साथ में हो अगर तो अजनबीयों सा रुख मोड़ के बैठना,
सामने रहोगे तो फिर से मोहब्बत होने का डर रहेगा।

जो फिर भी रहा ना जाये तो मुझे देख कर बस मुस्कुरा देना,

समझ जाऊंगी के फिर से मजबूरियों ने तुम्हे जकड़ रखा है।

पर करीब ना आना, बड़ी मुश्किलों से खुद को संभाला रखा है।

तुम्हे छु कर गुज़रा हवा का झोंका तक ही मुझे तहस नहस करने को काफी है,
मुझे शर्म नही ये कहने में की मुझमे आज भी तु बाकी है।

चाहे वो पहले सा हक़ ना सही,
पर सहेज के रखा है एक एक पल हमारी,यादों का संदूक में, पता है मुझे की तुम्हे आज भी वो इश्क़ है मुझसे।

इसलिए तो कहती हुँ नज़रे चुरा लेना,चोरी पकड़ी गयी तो मुश्किल बड़ी होगी,तुम्हे भी और मुझे भी।

( कहा था ना तुमने की भूल जाना, लो भूल गये,तुम्हे भूलना हम )

 

-दीप्ति पाठक 

 

 

Deepti Pathak
Deepti Pathak

780total visits,2visits today

3 thoughts on “कभी ऐसा होगा नहीं | दीप्ति पाठक | #अनलॉकदइमोशन

Leave a Reply