Category: Uncategorized

Wo Sirf Chhaye Saal Ki Bacchi Thi Yar | Mid Night Diary | Anupama verma
Poetry, Uncategorized

वो सिर्फ छह साल की बच्ची थी यार | अनुपमा वर्मा

बहोत मुश्किल था पर मन बना लिया था अब नही लिखूंगी। लेकिन कल शाम जब मैने गांव मे कदम रखा तो देखा.. गांव की सारी औरते मिलकर एक औरत को बुरी तरह मार रही थीContinue reading

Uncategorized

वासना नही प्रेम है ये | “उपासना पाण्डेय”आकांक्षा

अगर मैं तुमसे अपने दिल का हर हाल कहूं, तो वो प्रेम है मेरा, अगर मैं तुमसे मिलने का जिक्र करूं, तो वो मिलन जिस्म का नही रूह से रूह को मिलने की ख्वाहिश होगी,Continue reading

Nirbhaya | Mid Night Diary | Gopal Yadav | A Fearless Girl
Uncategorized

निर्भया | गोपाल यादव | अ फीयरलेस गर्ल

निर्भया अर्थात जो भय से शून्य हो, जिसे किसी का भय न हो। वही निर्भया जब अपना वजूद बचाने के लिए लड़ती है और हार जाती है। तेरह दिनों की जिल्लत और तकलीफ भरी जिंदगीContinue reading

Uncategorized

पहली बार | अभिनव सक्सेना | #नज़्म

मेरी मुस्कुराहट हमेशा से झूठी नहीं थी, और न ही मैं कभी उलझा हुआ था। बस मोहब्बत से नफरत सी है तुम्हारे बाद। तुम मुझे न तो मिल पायीं न मैं कभी खो ही पायाContinue reading

Uncategorized

जब भी तुम याद आती हो | दिनेश गुप्ता

उम्र के हर पड़ाव में, जीवन के हर बदलाव में रात में कभी दिन में, धूप में कभी छाँव में जज़्बातों के दबाव में, भावनाओं के बहाव में ज़ख्मों पर मरहमों में, मरहमों पर फिरContinue reading

Pardeshiyon Ke Mele | Mid Night Diary | Roshan 'Suman' Mishra
Uncategorized

परदेशियों के मेले | रौशन ‘सुमन’ मिश्रा

घास पर बिखरे ओस की बुँदे छोटी छोटी मोतियों की तरह चमक रही है ठंडी नरम हवा मन को ओत प्रोत कर रही है, दूर तक खेतों में सिर्फ धान की कटी हुई जरें दिखाईContinue reading

Uncategorized

उनट्रेंडिंग मोहब्बत | वैदेही शर्मा | लव आज कल

मोहब्बत तो हमें तुमसे कई ज्यादा थी, बस यूं कह लो कि तुम्हारी तरह ना थी, रंग भर उसका लाल नहीं था, करंट आशिकों सा तो हाल नहीं था, उसकी रिप्लेसमेंट का ख्याल नहीं था,Continue reading

Uncategorized

हैप्पी बर्थडे दूरदर्शन | ५८थ बर्थडे स्पेशल | सूरज मौर्या

दो काजू के बीच एक गेंद (ball) बचपन में कुछ ऐसे ही हम जानते थे दूरदर्शन को। हाँ कभी आपने अगर गौर किया होगा तो ये असल में वही है जो मैंने कहा। हमारे भारतContinue reading

Uncategorized

वक़्त का बदलता मिज़ाज़ | अर्चना मिश्रा

आज तुम हो साथ, तो चाँद भी मुंडेर पर मुस्कुरा रहा है। क्यों ना तुम्हें देखते-देखते, मैं आज उसके सारे रंग अपनी आँखों में भर लूँ। आज तुम हो साथ, तो चाँद भी मुंडेर परContinue reading