Category: Short Stories

A collection of Short Storeis

Khair Chhod Do | Mid Night Diary | Aman Singh
Benaam Khat

ख़ैर, छोड़ दो | अमन सिंह

कितना आसान है यह कह देना कि ‘छोड़ दो’ शायद यह दुनिया सा सबसे आसान शब्द होगा लेकिन इसे अंजाम तक ले जाना दुनिया का सबसे कठिन काम है। सिर्फ़ कहने भर से कहाँ कुछContinue reading

Agar Hum Sab Dibbe Hote | Mid Night Diary | Aishwarya Raj
Micro Tales

अगर हम सब डिब्बे होते | ऐश्वर्या

कैसा होता अगर हम सब डिब्बे होते, और हमारा जीवन कोई पोटली, और कोई होता, जो कई पोटलियाँ कंधे पर लटकाये नगर नगर घूमता! और फिर एक रोज, एक रोज वो भूलवश उस हरी पोटलीContinue reading

Silly Baatein | Mid Night Diary | Akanki Sharma
Micro Tales

सिली बातें | एकांकी शर्मा

“भैया, आप इतनी सिली बातें कैसे कर लेते हो?” “मैंने कब कुछ सिली कहा?” “ये जो अभी………….” “”मकसद तुम्हें हँसाना होता है।” “मेरी हँसी आपको अज़ीज़ है ना?” “बहुत।” “पर मैं हँस के क्या करुँगी?Continue reading

Short Stories

भागी हुई लड़कियाँ | भावना त्रिपाठी

कैसा नकारात्मक शब्द है न भागना! जैसे कायरता को परिभाषित कर रहा हो। पीठ दिखा कर भाग जाना कोई बहादुरी का काम है भला? कितनी भी मुसीबत हो, मुश्किल हालातों का डटकर सामना करना चाहिए,Continue reading

Ekakipan | Mid Night Diary | Raushan Suman Mishra
Short Stories

एकाकीपन | रौशन ‘सुमन’ मिश्रा 

रात के साढ़े आठ बज रहे हैं। दरवाजे पर डिबिया से आ रही हल्की रोशनी में अकेला सो रहा हूँ। झींगुर की झनझनाती आवाज मानों की मन में एक डर को पैदा कर रही है,Continue reading

Baaton Ki Purani Si Nayi Painting | Mid Night Diary | Aditi Chatterjee | #UnlockTheEmotion
Micro Tales

बातों की पुरानी सी नयी पेंटिंग | अदिती चटर्जी | #अनलॉकदइमोशन

बातों की पुरानी सी नयी पेंटिंग के कुछ रंग ज़रा चटकने लगे हैं, शायद मशरूफ है वो किसी दूसरे काम में… मैंने कोशिश की कुछ रंगो को और मिलाकर ठीक उसे वैसा ही करने कीContinue reading

Adhoora Khwaab | Mid Night Diary | Ashwani Singh | #UnlockTheEmotion
Short Stories

अधूरा ख़्वाब | अश्वनी सिंह | #अनलॉकदइमोशन

तुम्हे जब पहली दफा देखा तो सोचा अपने दिल की कब्र खोद के फिर से अपनी मोहब्बत को जिंदा’ करू और लगा जो धागा पुरानी मोहब्बत के खातिर मजार. में बाँधा था उसकी बरकत आज़Continue reading

Khel Jism Ka | Mid Night Diary | Hridesh Kumar | #UnlockTheEmotion
Short Stories

खेल जिस्म का | हृदेश कुमार | #अनलॉकदइमोशन

भागते भागते चबूतरे से नीचे उतर कर कुनाल ने हस्ते हुएे अपनी बड़ी बहन अंजली को पीछे देखा और अपने दोनो हाथो के अंगुठे को उसकी तरफ हिलाते हुये चिडाने लगा ,और बोला दीदी देखोContinue reading

Ekkees Din | Mid Night Diary | Gopal Yadav
Short Stories

इक्कीस दिन – एक मधुर पीड़ा | गोपाल यादव

सर्दी कुछ ख़ास नहीं थी फिर भी कॉलेज में सेमेस्टर एग्जाम के बाद हुए इस विंटर वेकेशन का एक दिन मैं अरविंद के साथ बिताना चाहता था। अरविंद जो कि एक शांत किस्म का इंसानContinue reading

Shahrikaran - Vardaan Ya Shraap | Mid Night Diary | Raushan Suman Mishra
Short Stories

“शहरीकरण” वरदान या शाप? | रौशन ‘सुमन’ मिश्रा

गाँव के पुरबारी मोहल्ले में एक नरायण बाबू थें। कहा जाता है कि गाँव की सत्तर फीसदी जमीन उनकी ही थी। यही नहीं गाँव के दस कोस में उनके सम्पति के बराबर वाला कोई नहींContinue reading