Category: Poetry

Maa | Mid Night Diary | Akash Singh Chandel | Mother's Day Special
Poetry

माँ | आकाश सिंह चंदेल | मदर’स डे स्पेशल | #अनलॉकदइमोशन

सात बजे का स्कूल था वो चार बजे उठ जाती थी। एक माँ ही तो थी, जो हर काम मेरा करवाती थी। पूरे घर का काम निपटा के, फिर वो मुझे पढ़ाती थी। एक माँContinue reading

Poetry

तुझपे मै क्या गीत लिखूं | कृष्ण कुमार पाण्डेय | मदर’स डे स्पेशल | #अनलॉकदइमोशन

हर शब्द तुझसे आता है, हर शब्द तुझ तक जाता है, शब्दों की पिरोकर माला, तुझको मै कैसे मीत लिखूं, तुझपे मै क्या गीत लिखूं, तुझपे मै क्या गीत लिखूं, रात भी तू है, तूContinue reading

Maa Sach Much Maa Hoti Hai | Mid Night Diary | Krishan Kumar Pandey | Mother's Day Special
Poetry

माँ सचमुच माँ होती है | कृष्ण कुमार पाण्डेय | मदर’स डे स्पेशल | #अनलॉकदइमोशन

नौ महीने तक वो अपने अंदर, किसी को पाल सकती है, बच्चा छोटा हो या बड़ा, वो बखूबी सँभाल सकती है, देने को किसी को नया जीवन, वो दर्द अथाह सह सकती है, खुद पेContinue reading

Maa | Mid Night Diary | Prajjval Nira Mishra | Mother's Day Special
Poetry

माँ | प्रज्ज्वल नीरा मिश्रा | मदर’स डे स्पेशल | #अनलॉकदइमोशन

माँ दूर है तो खुद को मैं बच्चा नही लगता। वो है नही तो ये शहर अच्छा नही लगता। जल्दी खा के सो जाना,जल्दी उठ जाना। यही है रोज़ का फसाना। पर सच बताऊं तोContinue reading

Poetry

परछाईं | प्रज्ज्वल नीरा मिश्रा | मदर’स डे स्पेशल | #अनलॉकदइमोशन

हर रिश्ते में ‘गम’ को,माँ ‘खुशियां’ कर देती है। बन कर परछाईं,जीवन मे रंग भर देती है। छोटी-छोटी बातों में भी बड़े बड़े सपने देखे। उसको याद रहें जीवन के सारे-सब लेखे-जोखे। दूर हो गएContinue reading

Poetry

घर | उत्तम कुमार

घर नहीं पिता कि मन्नत है, ये माँ कि बनाई हुई जन्नत है। यहाँ खुशियाँ बेशुमार और, आँसुओं कि किल्लत है, घर नहीं पिता कि मन्नत है। हर ओर फैली है सुख कि चादर, यहाँContinue reading

Poetry

वो इंसान नहीं हैवान था | प्रकाश कुमार

वो तड़पती रही , वो तड़पाता रहा , वो दर्द से कराहती रही , वो अपनी हवस बुझाता रहा । वो मिन्नतें करती रही अपनी रिहाई कि , वो अपनी दरिंदगी का चेहरा उसे दिखाताContinue reading

Wo Darti Hai | Mid Night Diary | Uttam Kumar
Poetry

वो डरती है | उत्तम कुमार

वो डरती है। साथ किसी के रहने से,साथ किसी के चलने से, साथ किसी के होने से,साथ किसी के जीने से, वो डरती है। बात किसी से करने से,बात किसी का सुनने से, बात किसीContinue reading