Category: Poetry

Aazadi | Mid Night Diary | Vinay Kumar
Poetry

आजादी | विनय कुमार

उसकी आजादी कैद हैसोच के तालो मे कहीशुरूआत भी करे तो क्यों करेउस चाबी को हाथ में उठाये क्यों कोई ये हमारा मान है या हैइसमें फर्क समझे क्यों कोईउसकी नजर झुके तो क्यों झुकेऐसाContinue reading

Ghazal ho Tum | Mid Night Diary | Vinay Kumar
Poetry

ग़ज़ल हो तुम | विनय कुमार

उस रोज जब उसने मझसे पूछा की अब क्या हूँ मैं तुम्हारे लिए?जब मेरी ख़ामोशी मेरे दिल की धड़कनो से बात करती है जब मेरी खुली आँखे तुम्हारे धुंधलाते चेहरे का दीदार करती हैजब मेराContinue reading

Poetry

आज फिर से जीने को दिल करता है | नयनसी श्रीवास्तव

सब कुछ तो है पास मेरे… न जाने क्या ढूंढ रही हूं न जाने आखिर किस चीज की कमी है कल तक जो आसमां था मेरे लिए… आज मेरी वह जमीन है ढूंढती फिरती हूंContinue reading

Diwali Mnana Chahta Hun | Mid Night Diary | Vinay Kumar
Poetry

दिवाली मानना चाहता हूँ | विनय कुमार

क्यों तुम मुझे मैं जैसा हूँवैसा नहीं अपनातेक्यों तुम मुझेदूसरे लोगोँ सेतोलते होक्यों तुम मुझेवो बनाना चाहते हो जो मैं हु ही नहींमैं सावन की घटा नहीं तो क्या हुआमैं उस जंगल का छोटा साContinue reading

Itna Mushkil Bhi Nahi Hai | Mid Night Diary | Anupama Verma
Poetry

इतना मुश्किल भी नहीं है | अनुपमा वर्मा

बहोत आसान है जो हम अकसर करते है लेकिन मैने करके देखा है हाँ.. वो जो हम अकसर नही करते है और यकीं करो दोस्तो इतना मुश्किल भी नहीं है हाँ.. बहोत आसान है बाहरContinue reading

Wo Darti Hai | Mid Night Diary | Uttam Kumar
Poetry

वो डरती है | उत्तम कुमार

वो डरती है। साथ किसी के रहने से,साथ किसी के चलने से, साथ किसी के होने से,साथ किसी के जीने से, वो डरती है। बात किसी से करने से,बात किसी का सुनने से, बात किसीContinue reading

Hausale Buland Hain | Mid Night Diary | Upasana Pandey
Poetry

हौसलें बुलंद हैं | उपासना पाण्डेय

कुछ वक्त की तरह थम से गये हम, कुछ रेत के जैसे बिखर गए हम, कुछ बंदिशे है अभी ज़िन्दगी में, कल खुले आसमान में उड़ना है हमे, अभी तलाश रही हूँ , एक खुलाContinue reading

Wo Sirf Chhaye Saal Ki Bacchi Thi Yar | Mid Night Diary | Anupama verma
Poetry, Uncategorized

वो सिर्फ छह साल की बच्ची थी यार | अनुपमा वर्मा

बहोत मुश्किल था पर मन बना लिया था अब नही लिखूंगी। लेकिन कल शाम जब मैने गांव मे कदम रखा तो देखा.. गांव की सारी औरते मिलकर एक औरत को बुरी तरह मार रही थीContinue reading