Category: Love

Swabhavik Pyaar | Mid Night Diary | Anupama Verma | Love Poetry
Love, Poetry

स्वाभाविक प्यार | अनुपमा वर्मा | लव पोएट्री

खास नही है प्यार मेरा जो कल आम हो जाएगा स्वाभाविक है मेरा प्यार खुदा भी ना बदल पाएगा जो गर तू समक्ष है मेरे तो मै कृतज्ञ होती हूँ वेदना से मक्ति तुझसे मिलकरContinue reading

Mulakat | Mid Night Diary | Swati Goyal | Short Love Story
Love, Short Stories

मुलाकात | स्वाति गोठवाल | शार्ट लव स्टोरी

कुछ मिनटो की मुलाकात अक्सर याद रहे जाती है | उपस्थित परिस्थितियों में भी अगर सोच के दायरे में वो चंद मिनटो की मुलाकात बार बार आकर तुम्हे तंग कर रही , तुम्हें वर्तमान कीContinue reading

Love, Short Stories

कहानी | वैदेही शर्मा

क्या याद है तुम्हें पिछले माह जब तुमने कहा था कि तुम मेरी किसी कहानी को अपने काम में ढालना चाहते हो तो यूँ लगा कि फिर किसी ने मुझे शून्य में धकेल दिया हो।Continue reading

Prem Me Phir Se Jeene Lga Hu | Mid Night Diary| Raushan Kumar 'Suman'
Love, Poetry

प्रेम में फिर से जीने लगा हूँ | रौशन ‘सुमन’ मिश्रा

तुम्हें पाने की कोशिशें खाक करके, खुद को पाने की राह पर चलने लगा हूँ। देख ना ले नजरें कोई तस्वीर तुम्हारी, बचपन के खिलौने सा छुपाने लगा हूँ। शहर में बदनाम हैं मेरे नामContinue reading

Benaam Khat, Love

कातिल | वैदेही शर्मा

तुम्हारी आँखों की चमक से मेरा राबता उतना ही गहरा है, जितना हमारे दरमियान बैठे हुए इस सन्नाटे का है। हमारे दफ़न हो चुके जज़्बातों के साथ ठीक वैसे ही जैसे इसे किसी सख़्त चीख़Continue reading

Roop Tumhari | Mid Night Diary | Roshan 'Suman' Mishra
Love, Poetry

रूप तुम्हारी | रौशन ‘सुमन’ मिश्रा

घनी अंधेरी रातों में वो, दिखती पुनम सी प्यारी। जुल्फ घनेरी लट उलझे हैं, मेघ घनाघन सी कारी। माथे बिंदिया चमक रही है, उगते सूरज सी लाली। होंठों पर कपकपी टिकी है, छलकत जाम कीContinue reading

Hate Story | Mid Night Diary | Akanki Sharm aka Writer Saahiba
Love, Short Stories

हेट स्टोरी | एकांकी शर्मा | राइटर साहिबा

“मैंने आज तक किसी से इतनी मोहब्बत नहीं की जितनी कि तुमसे नफ़रत कर ली है।” अवनी ने निकिता की आँखों में आँखें डालकर कहा। उसकी भौएं सिकुड़ी हुई थीं और आँखें आंसुओं से भरीContinue reading

Love, Short Stories

आई हेट यू ‘संजीत’ | आकाश कुशवाहा

रात के ग्यारह बज रहा होगा, सिरहाने तकिये के पास रखा मोबाइल बज उठा नींद मे अधखुली आँखों से मैंने देखा साक्षी का कॉल था “हेलो….. साक्षी” ..ओये मेरे हीरो गाँव क्या गये तुम तो जैसेContinue reading

Nishchhal Prem Ki Abhivyanjana | Mid Night Diary | Vishal Swaroop Thakur
Love, Micro Tales

निश्छल प्रेम की अभिव्यंजना | विशाल स्वरूप ठाकुर

हां आने लगी हो तुम मेरे सपनो में ख्वाबों के रस्ते पर चलते हुए। तुम वह तितली हो जो बाग़ को चारो तरफ से बंद किये जाने के बाद भी उस में आने से वंछितContinue reading