Aisa Kyun Hua Hai | Mid Night Diary | Mohit Chauhan

ऐसा क्यों हुआ है | मोहित चौहान

ना जाने हर बार ऐसा क्यों हुआ है,
चाहा जिसे भी मैने दूर मुझसे वो हुआ है,

दर्द अब ये सहूँ कैसे,
हाल-ए-दिल बयां करूँ भी तो कैसे,

हुई मुझसे खता क्या इस दिल को समझ ना आयी,
क्यों तुझे प्यार करने कि ये सज़ा है मैने पायी,

ना देखा तूने मेरा ग़म, ना इस दिल की हालत है जानी,
हँसते हँसते मेरी बर्बादियों की लिख दी तूने कहानी,

बिखर गयें हैं अरमान, सपने गयें हैं टूट,
लगता है जैसे, ज़िन्दगी गयी है रूठ,

इतना बता दे मुझको, मेरे प्यार मे क्या थी कमी,
देख आज इन आँखों मे है कितनी नमी,

तू नहीं है आज मेरे पास, तेरा एहसास मगर है,
कितनी सूनी है इस दिल की दुनिया, क्या तुझको इसकी खबर है,

एक अजीब सी हलचल रहती है मेरे मन मे,
कुछ भी समझ ना आये रहता हूँ उलझन मे,

मुझे तन्हाईयां है डसती,
देख, आज सारी दुनिया मुझपे है हंसती,

किया था तुझपे भरोसा बदले मे मिली रुसवाई,
अपनी दुनिया बसाके तूने की है बेवफाई,

लेके तेरे सारे ग़म, रोशन तेरा जहान किया है,
तुझको पाने की चाहत मे, मैने खुद को कुर्बान किया है।

 

-मोहित चौहान

 

Mohit Chauhan
Mohit Chauhan

283total visits,1visits today

Leave a Reply