Day: June 24, 2018

Hausale Buland Hain | Mid Night Diary | Upasana Pandey
Poetry

हौसलें बुलंद हैं | उपासना पाण्डेय

कुछ वक्त की तरह थम से गये हम, कुछ रेत के जैसे बिखर गए हम, कुछ बंदिशे है अभी ज़िन्दगी में, कल खुले आसमान में उड़ना है हमे, अभी तलाश रही हूँ , एक खुलाContinue reading