Day: March 14, 2018

Ghazal

ख़ैर छोड़ो फिर कभी | शुभम् गोस्वामी “आग़ाज़”

क्या हमारी बात होगी.? ख़ैर छोड़ो फिर कभी। इक नई शुरुवात होगी.? ख़ैर छोड़ो फिर कभी।। सीख कर आया हूँ फिर से इश्क़ का शतरंज मैं। अबके उसकी मात होगी.? ख़ैर छोड़ो फिर कभी।। पाक़Continue reading