Day: January 27, 2018

Shahrikaran - Vardaan Ya Shraap | Mid Night Diary | Raushan Suman Mishra
Short Stories

“शहरीकरण” वरदान या शाप? | रौशन ‘सुमन’ मिश्रा

गाँव के पुरबारी मोहल्ले में एक नरायण बाबू थें। कहा जाता है कि गाँव की सत्तर फीसदी जमीन उनकी ही थी। यही नहीं गाँव के दस कोस में उनके सम्पति के बराबर वाला कोई नहींContinue reading

Poetry

कलम | अभिषेक यादव

मैं लिख रहा हूँ, क्या लिख रहा हूँ, नहीं पता। क्यूँ लिख रहा हूँ ,नहीं पता, कागज पर, कॉपी पर या दीवारों पर लिख रहा हूँ, नहीं पता। कहाँ लिख रहा हूँ ,नहीं पता, मैंContinue reading