Day: November 24, 2017

Raavan | Mid Night Diary | Musafir Tanzeem
Poetry

रावण | मुसाफिर तंज़ीम

जब तुम हँसते हो किसी सहकर्मी के स्तन या नितम्ब के बारे में छिछली सी बातें करके तब मुझे लगता है रावण अभी मरा नहीं है। बैठ गया है वो हमारे दिमाग में जब किसीContinue reading

Darmiyaan | Mid Night Diary | Dinesh Gupta
Poetry

दरमियान | दिनेश गुप्ता

तेरे सुर्ख होंठो की नरमियाँ याद है तेरी सर्द आहों की गरमियाँ याद है कुछ भी तो नहीं भूले हम आज भी जो कुछ भी था दरमियाँ याद है…. याद है बिन तेरे वो शहरContinue reading