Day: November 16, 2017

Koi Apna Nhi | Mid Night Diary | Prashant Sharma | Sad Poetry
Poetry

कोई अपना नहीं | प्रशान्त शर्मा | सैड पोएट्री

अब रातों को सो कर क्या करे हम। मेरा तो अपना कोई सपना ही नही। किसी का गम करे तो क्यों करे हम। मेरा तो यहाँ कोई अपना ही नही। भरी बज़्म को ही अपनाContinue reading

Uncategorized

जब भी तुम याद आती हो | दिनेश गुप्ता

उम्र के हर पड़ाव में, जीवन के हर बदलाव में रात में कभी दिन में, धूप में कभी छाँव में जज़्बातों के दबाव में, भावनाओं के बहाव में ज़ख्मों पर मरहमों में, मरहमों पर फिरContinue reading