Day: November 9, 2017

Purana Khat | Mid Night Diary | Hridesh Kumar Sutrakar
Poetry

पुराना ख़त | हृदेश कुमार सूत्रकार

लिखा पुराना खत् मेरा क्या तुमसे खोला जायेगा? या कहा मेरा सब कुछ बाबा से बोला जायेगा ! बो आधी रात कि आधी बातें, वो आधे वादे सीधे साधे, कुछ किस्से राजा रानी के, वोContinue reading

Poetry

ख़त | सारांश श्रीवास्तव | लव लेटर

रात के खामोश सन्नाटो में जब लिखा था चाँद को तुम्हारी तरह, पहली बारिश की सौंधी सुगंध में जो थी महक तुम्हारी, और किसी दरिया पर चाँद की परछाई सच मनो जैसे हो तुम्हारी पायलContinue reading