Day: October 30, 2017

Bahroopiya Prem | Mid Night Diary | Veebha Parmar
Poetry

बहरूपिया प्रेम | विभा परमार

प्रेम बहरूपियापन से कम नहीं प्रेम के अनेकों रूप बेचैनी छटपटाहट आशा निराशा आकर्षण मौन खनकती हँसी जो बयां कर देती है सबकुछ तुम्हारा मेरे अंदर रोज़ बढ़ना और मेरे अंदर मेरा ही कम होContinue reading

Lakadi Ka Radio | Mid Night Diary | Anubhav Kush
Short Stories

लकड़ी का रेडिओ | अनुभव कुश

दीवाली……! दीवाली सिर्फ दीवाली नहीं बल्कि एक ओवरडोज होता है। सबकुछ तो होता है इसमें – सफाई, दीवारों में नए रंग, बहुत सारी झालरें और पटाखे भी। उन दिनों मेरी उम्र थी बारह साल, क्लासContinue reading