Day: October 16, 2017

Poetry

माँ | आशीष कुमार लोधी

कभी-कभी मैं बेचैन हो जाता हूँ, माँ से कही बातें सोचकर, कि मैं सही हूँ | पता नहीं, शायद वो एक गायक हैं, या एक मनोवैज्ञानिक, जो मेरी आवाज़ के गंभीर उतार – चढ़ावों को,Continue reading