Day: September 15, 2017

Hazaar Khwaab | Mid Night Diary | Archana Mishra
Love, Poetry

हज़ार ख्वाब | अर्चना मिश्रा

रुक-रुक कर बारिश का आना, मुझे तुम्हारा ख़्वाब दे जाता है। ये चलते-चलते आसमां में, अचानक चाँद का बादलों में छुप जाना भी, तुम्हारा ख़्वाब दिखाता है मुझे।   तुम्हारा ही ख़्वाब आता है मनContinue reading

Uncategorized

हैप्पी बर्थडे दूरदर्शन | ५८थ बर्थडे स्पेशल | सूरज मौर्या

दो काजू के बीच एक गेंद (ball) बचपन में कुछ ऐसे ही हम जानते थे दूरदर्शन को। हाँ कभी आपने अगर गौर किया होगा तो ये असल में वही है जो मैंने कहा। हमारे भारतContinue reading

Kuch Misra | Mid Night Diary | Roshan 'Suman' Mishra
Love, Poetry

कुछ मिसरा | रौशन ‘सुमन’ मिश्रा

बस इक आखिरी ख्वाब हो अब भी, यादों को इस कदर संजोया है हमने। रातें कटती है रोते हुए अब भी, आंसुओं से तकिये भिगोया है हमने।। देखता हूँ दर्पण बार बार अब भी, बड़ीContinue reading