Month: September 2017

Short Stories

कुछ मेरी भी | जय वर्मा

मैं एक मूर्तिकार हूं। दिन भर पत्थर की शिलाओं पर खट् खट् खट् खट् खट्। यही मेरा काम है। मैं, तरह तरह के महापुरुषों देवों देवियों को गढ़ने वाला अपना भाग्य नहीं गढ़ पाता हूं।Continue reading

Suna To Nahi | Mid Night Diary | Mihir Pandey
Micro Tales

सुना तो नहीं | मिहिर पांडेय

“ देश में घोटाले करने का तरीका भी बदल जाता है, जब कोई देश बदल रहा होता है। मतलब यह है कि घोटाले का प्रारूप अब पहले से बेहतर और साफ़ – सुथरी दिखने लगाContinue reading

Hate Story | Mid Night Diary | Akanki Sharm aka Writer Saahiba
Love, Short Stories

हेट स्टोरी | एकांकी शर्मा | राइटर साहिबा

“मैंने आज तक किसी से इतनी मोहब्बत नहीं की जितनी कि तुमसे नफ़रत कर ली है।” अवनी ने निकिता की आँखों में आँखें डालकर कहा। उसकी भौएं सिकुड़ी हुई थीं और आँखें आंसुओं से भरीContinue reading

Dhundh | Mid Night Diary | Jay Verma
Poetry

धुंध | जय वर्मा

लोगों को पसंद है धुंधलका, जिससे न पहचाने जा सकें चेहरे। छिपे रहें तथ्य, अस्पष्ट रहें विचार, और, चलता रहे यूं ही, ज्यों ही चलता है। एक पलायान, एक लुकाछिपी, चलती है सतत, इस स्पष्टताContinue reading

Love, Short Stories

आई हेट यू ‘संजीत’ | आकाश कुशवाहा

रात के ग्यारह बज रहा होगा, सिरहाने तकिये के पास रखा मोबाइल बज उठा नींद मे अधखुली आँखों से मैंने देखा साक्षी का कॉल था “हेलो….. साक्षी” ..ओये मेरे हीरो गाँव क्या गये तुम तो जैसेContinue reading

Nishchhal Prem Ki Abhivyanjana | Mid Night Diary | Vishal Swaroop Thakur
Love, Micro Tales

निश्छल प्रेम की अभिव्यंजना | विशाल स्वरूप ठाकुर

हां आने लगी हो तुम मेरे सपनो में ख्वाबों के रस्ते पर चलते हुए। तुम वह तितली हो जो बाग़ को चारो तरफ से बंद किये जाने के बाद भी उस में आने से वंछितContinue reading

Main Aaya Tere Gaon Me Savan Ke Sath | Mid Night Diary | Dharmendra Singh
Love, Poetry

मैं आया तेरे गाँव में सावन के साथ | धर्मेंद्र सिंह

मैं आया तेरे गांव में सावन के साथ बागों में फूल खिले थे, पर इक कली मुरझाई देख मुझे वो लपक के दौड़ी आई बर्षों बाद आया तू पत्थर दिल सिपाही कह के लगी गलेContinue reading