Month: September 2017

Short Stories

Kuch Meri Bhi

मैं एक मूर्तिकार हूं। दिन भर पत्थर की शिलाओं पर खट् खट् खट् खट् खट्। यही मेरा काम है। मैं, तरह तरह के महापुरुषों देवों देवियों को गढ़ने वाला अपना भाग्य नहीं गढ़ पाता हूं।Continue reading

Hate Story | Mid Night Diary | Akanki Sharm aka Writer Saahiba
Love, Short Stories

Hate Story :: Writer Saahiba

“मैंने आज तक किसी से इतनी मोहब्बत नहीं की जितनी कि तुमसे नफ़रत कर ली है।” अवनी ने निकिता की आँखों में आँखें डालकर कहा। उसकी भौएं सिकुड़ी हुई थीं और आँखें आंसुओं से भरीContinue reading

Teri Kami | Mid Night Diary | Shipra Singh
Love, Poetry

Teri Kami :: Shipra Singh

वक्त वही हालात वही फिर भी कुछ कमी सी है। आँखों में तेरा इंतज़ार और कुछ नमी सी है। सब कुछ कल जैसा था वैसा आज भी है, पर तेरे न होने से मेरी दुनियाContinue reading

Dhundh | Mid Night Diary | Jay Verma
Poetry

Dhundh :: Jay Verma

लोगों को पसंद है धुंधलका, जिससे न पहचाने जा सकें चेहरे। छिपे रहें तथ्य, अस्पष्ट रहें विचार, और, चलता रहे यूं ही, ज्यों ही चलता है। एक पलायान, एक लुकाछिपी, चलती है सतत, इस स्पष्टताContinue reading

Love, Short Stories

I Hate You ‘Sanjeet’ :: Aakash Kushwaha

रात के ग्यारह बज रहा होगा, सिरहाने तकिये के पास रखा मोबाइल बज उठा नींद मे अधखुली आँखों से मैंने देखा साक्षी का कॉल था “हेलो….. साक्षी” ..ओये मेरे हीरो गाँव क्या गये तुम तो जैसेContinue reading

Poetry

Nafrat :: Amita Gautam

दिन है बदल रहा,रात है बदल रही। मौसम है बदल रहा, सौगात है बदल रही।। इस बदलाव मे ज़िंदगी तुम भी बदल गई, क्या तुम्हे मुझसे नफ़रत सी हो गई ।। न बातो मे मिठास,Continue reading

Main Aaya Tere Gaon Me Savan Ke Sath | Mid Night Diary | Dharmendra Singh
Love, Poetry

Main Aaya Tere Gaon Me Savan Ke Sath

मैं आया तेरे गांव में सावन के साथ बागों में फूल खिले थे, पर इक कली मुरझाई देख मुझे वो लपक के दौड़ी आई बर्षों बाद आया तू पत्थर दिल सिपाही कह के लगी गलेContinue reading

Short Stories

Indu

ऑटो के चलने के आवाज और आस पास के ट्रैफिक के शोर-शराबे के बीच वो ऑटो में चढ़ी, करीब 3 बरस बाद मैंने उसे देखा था। वही चेहरा था पर अब वो चमक नहीं थी,Continue reading