Day: August 30, 2017

Parda | Mid Night Diary | Vaidehi Sharma
Love, Poetry

Parda

जिस रोज़ पर्दे का गिरना होगा, मैं आऊँगा फिर तुमसे हाथ मिलाने, तुम्हें मुझे करीब से दिखाने, उन तालियों की गहरी आवाज़ों के बीच, उन लोगों की सुलगती आंखों के बीच, वो झिलमिलाती पोषाक उतारकर,Continue reading