Day: August 28, 2017

Short Stories

गुड़ की डली | हृदेश कुमार सूत्रकार | बेस्ड ऑन फॉर्मर सुसाइड केस

हाथ में पत्थर उठा कर जोर से चिल्लाते हुए, भग सुबह सुबह भो भो करती रहती है, ये भूरी और कुछ काम तो हैं नहीं, हम ही खिलाये इसे और हमारी ही नींद ख़राब करे,Continue reading

Baarish | Mid Night Diary | Anupama verma
Love, Poetry

बारिश | अनुपमा वर्मा

धरती पर आज फिर, बूंदो की चादर बिछी मोहब्बत बेहिसाब है, कि नजर हटती ही नही बूंदो की फुहार से, धरती को फिर राहत मिली हमे मिली ना राहत, पर उम्मीद तो मिल ही गयीContinue reading