Month: August 2016

Raksha Bandhan | Mid Night Diary | Aman Singh | अमन सिंह
Love, Short Stories

रक्षा बंधन | अमन सिंह | भाई बहन का प्यार

“अरे मेरी राखी के पैसे?” “पैसे कैसे पैसे? मिठाई और राखी तो पापा के पैसों से आई है फिर किस बात के पैसे” मैंने तुम्हारी बात का जवाब देते हुए कहा तो तुम मेरी शिकायतContinue reading

Love, Micro Tales, Short Stories

एन-अदर साइड | अमन सिंह

हिमालय के खूबसूरत ऊँचे ऊँचे दरख्तों से जब देखता हूँ तो जन्नत नज़र आती है। आस्मां को छु लेने वाली चोटियों से नीलम दरिया का पानी भी नीला ही नज़र आता है। लेकिन यह इसContinue reading

Love, Micro Tales, Short Stories

क्रेजी दिल | अमन सिंह

दिल को समझ पाना किसी के बस की बात नहीं… कब कहाँ इस दिल में कौन सा ख्याल आ जाये ये भी कह पाना थोडा मुश्किल ही है। जब कभी भी मुझे वक़्त मिलता हैContinue reading

Love, Micro Tales, Short Stories

वेटिंग | अमन सिंह | इन्तजार

अक्सर ही फेसबुक के सर्च बॉक्स में तुम्हारा नाम टाइप करके तुम्हे खोजने की कोशिश करता, तुम्हारे नाम से मिलते जुलते कई चेहरे नज़र आते पर तुम कही दिखाई नही देती। मुझे तो ये भीContinue reading

Love, Micro Tales, Short Stories

माय बेस्ट ‘गर्ल’फ्रेंड | अमन सिंह

बड़ी अजीब बात हैं न, कि सभी यही कहते हैं कि दोस्ती प्यार की शुरुआत होती है लेकिन फिर भी अक्सर सुनने में आता है, कि एक लड़की और एक लड़का कभी दोस्त नहीं होContinue reading

Love, Micro Tales, Short Stories

लॉस्ट वर्ड्स लॉस्ट मी | अमन सिंह

कब से तुम्हें एक बात कहना चाहता हूँ पर जब भी तुम सामने होती हो तो शब्द ही खो जाते हैं बिल्कुल वैसे ही जैसे धूप के न रहने पर साया, टुकड़ों में बट चुकेContinue reading

Love, Micro Tales, Short Stories

बचपन की यादें | अमन सिंह | चाइल्डहुड मेमोरीज

बचपन की मीठी यादों की ठंडक आज भी सुकून के कुछ पल दे जाती है। आज कल गर्मी के दिनों में जब दोपहर के वक़्त कहीं से घंटी की आवाज आती है तो हम बिनाContinue reading

Love, Micro Tales

ड्रॉप्स एंड यू | अमन सिंह

पिछली रात बारिश आई थी, कुछ हवा के झोकों के साथ.… बारिश की नन्हीं नन्हीं मचलती बूंदें जब इस जमीं के आँचल को छूती बस एक खुशबू दिल के करीब से गुजर जाती। बारिश कीContinue reading

Love, Micro Tales, Short Stories

माँ ‘द अनकंडीशनल लव’ | अमन सिंह

ऑफिस से आने के बाद रोज़ रोज़ खाना बनाने की जद्दोजहेद और अकेलापन अब जैसे थम सी गयी जिंदगी का हिस्सा बन गये हैं। पिछली रात की बात है, लगभग ११ बज गये थे औरContinue reading